• Learn astrology with astrology masters
  • Tips on improving life
  • How to achieve success in life with astrology
  • Secrets & mysteries of astrology

राहु गोचर 2019

 राहु गोचर 2019 राहु गोचर 2019 में आज हम आपको बताने जा रहे हैं की राहु ग्रह का मिथुन राशि में प्रवेश करने से अन्य राशियों पर इसका क्या प्रभाव होगा। ज्योतिष-शास्त्र के अनुसार राहु ग्रह को सभी राशियों के जीवन पर पड़ने वाले एक बुरे साये के रूप में जाना जाता है। राहु और केतु दो ऐसे ग्रह हैं जिनका कोई आकार नहीं होता है। इस लेख के जरिये हम राहु ग्रह के गोचर का अन्य राशियों के जीवन पर पड़ने वाले सकारात्मक और नकारात्मक तथ्यों को बताएंगे ।

ज्योतिषशास्त्रियों की मानें तो खासतौर से राहुकाल के दौरान राहु की स्थिति हर राशि में काफी प्रबल होती है। मिथुन राशि को राहु ग्रह कि उच्च राशि कहा जाता है और धनु को नीच राशि कहा जाता है। राहु जब अपनी उच्च राशि में होता है तो अत्यधिक मजबूत होता है और इसका प्रभाव अत्यधिक हो जाता है और इस साल राहु मिथुन राशि में गोचर कर रहा है इसलिए इसके नैसर्गिक प्रभाव में भी अत्यधिक वृद्धि होगी।

राहु के मिथुन राशि में गोचर समय की बात करें तो ये 7 मार्च 2019 को रात के लगभग 2 बज कर 48 मिनट पर मिथुन राशि में प्रवेश करेगा और 23 सितम्बर 2020 तक मिथुन राशि में ही विराजमान रहेगा । राहु भले ही मिथुन राशि में प्रवेश कर रहा हो लेकिन इसका प्रभाव सभी अन्य राशियों के जीवन पर भी पड़ने वाला है। तो आईये जानते हैं 2019 में राहु गोचर के फलस्वरूप कैसा बीतेगा आपका समय।

मेष राशि

  • राहु इस गोचर के दौरान आपके तीसरे भाव में प्रवेश करेगा।
  • आपके लिए राहु का यह गोचर काफी लाभदायक साबित होगा।
  • कुंडली का तीसरा भाव साहस, पराक्रम, छोटे भाई बहनों से रिश्ता और दोस्ती को दर्शाता है।
  • राहु के गोचर की वजह से आपको अनेक प्रकार से धन लाभ होगा।
  • जो लोग नौकरी की तलाश में लगे हुए हैं उन्हें इस दौरान अच्छा काम मिलेगा।
  • राहु गोचर के दौरान किसी भी लम्बी यात्रा पर जाने से आपको बचना चाहिए।
  • हर किसी से मित्रतापूर्ण संबंध बनाकर रखें और किसी का अनादर ना करें।

उपाय: राहु के प्रभावों से बचने के लिए हर बुधवार की शाम काले तिलों का दान करें।

वृषभ राशि

  • गोचर के दौरान राहु ग्रह आपके दूसरे भाव में विराजमान होगा।
  • जन्म कुंडली का दूसरा भाव मुख्य रूप से आर्थिक स्थिति, स्वभाव, भाषा, शिक्षा और रूप-रंग के लिए जिम्मेदार होता है।
  • वृषभ राशि के जातक राहु गोचर के दौरान किसी भी प्रकार के बिजनेस में निवेश करने से बचें।
  • राहु गोचर की वजह से वृषभ राशि वालों को खासतौर से पैसों के लेन - देन के मामले में सतर्कता बरतनी चाहिए।
  • अपने गुस्से पर काबू रखें और किसी से भी बिना वजह ना उलझें।
  • परिवार के लोगों से शांतिपूर्ण ढंग से पेश आएं और मुश्किल वक़्त में अपना आपा ना खोएं।

उपाय: वृषभ राशि के जातक राहु दोष के निवारण के लिए रविवार के दिन भैरवनाथ मंदिर में काले रंग का ध्वज लगाएँ।

मिथुन राशि

  • राहु ग्रह साल 2019 में आपके तीसरे भाव में विराजमान होगा।
  • राहु गोचर के प्रभाव से जीवन में मुसीबतों का सामना करना पड़ सकता है और विशेष रूप से मुसीबत की स्थिति में सोच समझकर काम करने की आवश्यकता है।
  • इस बात का विशेष ध्यान रखें की किसी के साथ भी बिना वजह की बहस ना करें, ये आपके विपरीत जा सकता है।
  • विद्यार्थियों को विशेष रूप से राहु गोचर के दौरान अपनी पढ़ाई पर ध्यान देने की आवश्यकता होगी।

उपाय: मिथुन राशि के जातक राहु गोचर के दौरान आने पास हमेशा एक काले रंग का पत्थर ज़रुर रखें।

कर्क राशि

  • राहु आपके बारहवें भाव में विराजमान होगा।
  • आपका बारहवां भाव विशेष रूप से आर्थिक मामलों से जुड़ा होता है।
  • राहु गोचर के दौरान आपके जीवन में आर्थिक मामलों से जुड़ी परेशानियां आ सकती हैं, फिजूलखर्ची से बचकर रहें।
  • पारिवारिक झगड़े की स्थिति उत्पन्न हो सकती है।
  • किसी भी विषम परिस्थिति का सामना सूझ बूझ के साथ ही करें।

उपाय: कर्क राशि के जातक राहु गोचर के प्रभाव से बचने के लिए महाकाली और भैरवदेव की पूजा अर्चना नियमित रूप से करें।

सिंह राशि

  • आपके ग्यारहवें भाव में राहु विराजमान होगा।
  • जन्म कुंडली का ग्यारहवां भाव विशेष रूप से धन लाभ और महत्वाकांक्षाओं से सम्बंधित होता है।
  • राहु गोचर की वजह से आपको विशेष धन लाभ होगा।
  • कार्यक्षेत्र में आपका मान सम्मान बढ़ेगा।
  • बच्चों के हाव भाव से मन उदास हो सकता है।
  • शादीशुदा लोगों के जीवन में खुशियों के नए आयाम बनेंगे।

उपाय: सिंह राशि के जातक राहु के प्रभावों से बचने के लिए कुत्तों को रोटी खिलाना ना भूलें।

कन्या राशि

  • इस गोचर के दौरान राहु ग्रह आपके दसवें भाव में विराजमान होगा।
  • जन्म कुंडली का दसवाँ भाव मुख्य रूप से करियर और बिजनेस के लिए जिम्मेदार होता है।
  • किसी भी तरह की सफलता प्राप्त करने के लिए भूलकर भी कोई छोटा रास्ता ना चुनें।
  • अपनी माँ की सेहत का विशेष रूप से ख्याल रखें।
  • आर्थिक पक्ष मजबूत होगा लेकिन पैसों की फ़िज़ूलखर्ची से बचें।

उपाय: राहु की महादशा से बचने के लिए नियमित रूप से श्री राम रक्षा स्तोत्र का पाठ जरूर करें।

तुला राशि

  • गोचर के दौरान राहु ग्रह आपके नवम भाव में स्थित होगा।
  • जन्म कुंडली का नवम भाव भाग्य, पिता के साथ संबंध, धर्म से जुड़ाव आदि के लिए जिम्मेदार होता है।
  • राहु के गोचर की वजह से तुला राशि वालों को खासतौर से आर्थिक रूप से हानि पहुंच सकती है।
  • कार्यक्षेत्र और बिज़नेस में भी स्थिति सामान्य सी ही बनी रहेगी।
  • इस समयावधि में अपने पिता की सेहत का ख़ास ख्याल रखें।
  • मानसिक तनाव को खुद पर हावी ना होने दें।

उपाय: तुला राशि के जातक राहु ग्रह के प्रकोप से बचने के लिए नियमित रूप से "ॐ दुं दुर्गाय नमः" का जाप ज़रूर करें।

वृश्चिक राशि

  • आपके आठवें भाव में 2019 में राहु का वास होगा।
  • जन्म कुंडली का आठवां भाव मृत्यु, किसी प्रकार का एक्सीडेंट और लम्बी उम्र के लिए जिम्मेदार होता है।
  • आपको राहु गोचर के दौरान कुछ मुसीबतों का सामना करना पड़ सकता है।
  • राहु गोचर के दौरान किसी भी प्रकार के नशीले पदार्थ का सेवन करने से बचें।
  • अपनी सेहत का ख़ास ख्याल रखें और नियमित रूप से एक्सरसाइज करें।
  • किसी पुरानी बात को फिर से ना उठाएं, ये आपके लिए नुकसानदायक साबित हो सकता है।

उपाय: वृश्चिक राशि के जातक राहु के प्रकोप से बचने के लिए शनिवार के दिन नीले कपड़ों का दान करें।

धनु राशि

  • राहु ग्रह इस गोचर की अवधि में आपके सातवें भाव में स्थित रहेगा।
  • जन्म कुंडली का सातवाँ भाव जीवनसाथी के साथ संबंध, वैवाहिक जीवन और साझेदारी के लिए जिम्मेदार होता है।
  • राहु गोचर की वजह से आपके जीवन पर इसका नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।
  • वाद विवाद की स्थिति उत्पन्न हो सकती है इसलिए आपको अपनी वाणी पर संयम रखना होगा।
  • इस अवधि में अपने जीवनसाथी के साथ बातचीत के दौरान धैर्य से काम लें।
  • परिवार में किसी के साथ मतभेद की स्थिति उत्पन्न हो सकती है।

उपाय: धनु राशि के जातक राहु की कृपा पाने के लिए बुधवार की शाम काले तिलों का दान करें।

मकर राशि

  • इस समयावधि में राहु ग्रह आपके छठे भाव में विराजमान रहेगा।
  • जन्म कुंडली का छठा भाव मुख्य रूप से आर्थिक स्थिति, सेहत और शत्रु पक्ष के साथ संबंधों के लिए जिम्मेदार होता है।
  • राहु गोचर की वजह से मकर राशि वालों को करियर दिशा में ख़ास उन्नति मिलने वाली है।
  • बिज़नेस क्षेत्र में अपार उपलब्धि मिलेगी और कार्यक्षेत्र में आपके काम को सराहा जाएगा।
  • पैसों के लेन देन के मामलों में भी सफलता मिलेगी और स्वास्थ्य उत्तम रहेगा।

उपाय: मकर राशि के जातक राहु के प्रकोप से बचने के लिए नियमित रूप से "ॐ रां राहवे नमः" मन्त्र का जाप करें।

कुम्भ राशि

  • गोचर की इस अवधि में राहु ग्रह आपके पांचवें भाव में विराजमान रहेगा।
  • जन्म कुंडली का पांचवां भाव संतान सुख और बुद्धिमत्ता के लिए जिम्मेदार होता है।
  • राहु के गोचर की वजह से आपको आर्थिक रूप से हानि की स्थिति उत्पन्न हो सकती है।
  • पारिवारिक जीवन में तनाव की स्थिति उत्पन्न हो सकती है।
  • विषम परिस्थितियों में अपना आपा ना खोएं और संयम से काम लें।
  • माता- पिता और जीवनसाथी का भरपूर साथ मिलेगा।
  • आपको बेवजह के झगड़ों में ना पड़ने की सलाह दी जाती है।

उपाय: कुम्भ राशि के जातक राहु गोचर के नकारात्मक प्रभावों से बचने के लिए पक्षियों को सात प्रकार के अनाज (सतनजा) खिलाएं।

मीन राशि

  • इस गोचर के दौरान राहु गृह की उपस्थिति आपकी जन्म कुंडली के चतुर्थ भाव में रहेगी।
  • जन्म कुंडली का चतुर्थ भाव वाहन सुख, माता के साथ सम्बन्ध, धन और प्रॉपर्टी के लिए जिम्मेदार होता है।
  • राहु गोचर की वजह से आपके आर्थिक पक्ष, कार्यक्षेत्र और पारिवारिक जीवन पर इसका नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है।
  • आपको अपनी माँ के स्वास्थ्य का ख्याल रखना चाहिए ।
  • कार्यक्षेत्र में जिम्मेदारियों का भार बढ़ सकता है।
  • पैसों की फ़िज़ूलख़र्ची से बचें अन्यथा आर्थिक स्थिति कमजोर होगी।

उपाय: मीन राशि के जातकों को राहु गोचर के प्रकोप से बचने के लिए ग़रीबों में कम्बल बांटने चाहियें।