केतु गोचर 2019

केतु गोचर 2019 सभी ग्रहों और उनकी स्थितियों का मनुष्य के जीवन पर प्रभाव पड़ता है। वह कभी बुरा व कभी अच्छा हो सकता है. केतु ग्रह के एक राशि से दूसरी राशि में जाने से अर्थात् स्थान परिवर्तन करने से हम सभी के जीवन पर अच्छा व बुरा प्रभाव पड़ेगा।

केतु का गोचर एक बड़ी ज्योतिषीय घटना है। 2019 में होने वाली यह ज्योतिषीय घटना हमारे जीवन पर अलग अलग प्रकार से प्रभाव डालेगी. केतु एक छाया ग्रह है इसकी वास्तविक आकृति एवं रूप नहीं है इसलिए इसे छाया ग्रह के नाम से भी जाना जाता है. ज्योतिष के अनुसार इसे क्रूर ग्रह माना गया है परंतु यदि किसी की कुंडली में केतु मज़बूत है तो उसे इसके शुभ फल मिलते हैं और यदि केतु ग्रह कमज़ोर है तो कई तरह की विपदाएं, संकट सामने आने लगते हैं. वैदिक ज्योतिष के अनुसार केतु ग्रह मोक्ष, आध्यात्म, शांति,वैराग्य, तांत्रिक क्रियाओं का कारक है। मनुष्य को सांसारिक माया से दूर ले जाता है केतु के प्रभाव से व्यक्ति के भीतर आध्यात्म को लेकर रुचि जागृत होती है।

केतु ग्रह व्यक्ति के जीवन मे बड़े परिवर्तन लाता है। इसके शुभ प्रभाव से व्यक्ति को जीवन मे एक नया जोश, उत्साह और साहस का अनुभव होने लगता है. केतु बुद्ध की तार्किकता, बौद्धिकता, गुरु के ज्ञान को मिलाने वाली एक महीन रेखा है यह व्यक्ति में सोचने की।शक्ति को बढ़ाती है व वास्तविक सत्य का ज्ञान कराती है लेकिन यदि केतु कुंडली में कमज़ोर स्थिति में हो तो यह दुर्घटनाओं की संभावना को बढ़ाता है साथ ही शारीरिक बीमारियाँ जैसे फेफड़ों की समस्या, पेट से सम्बंधित रोग एवं मानसिक अस्थिरता जैसी समस्याओं को लेकर आता है. व्यक्ति उचित निर्णय लेने में असमर्थ हो जाता है. साथ ही सब कुछ पाकर खो देने की स्थिति बनी रहती है। केतु ग्रह 7 मार्च 2019 की रात्रि में 2: 48 बजे धनु राशि में गोचर करेगा और 23 सितंबर 2020 को सुबह 5:28 बजे धनु राशि से वृश्चिक राशि में जाएगा. केतु गोचर का प्रभाव सभी 12 राशियों पर विभिन्न प्रकार से पड़ेगा:-

मेष

केतु गोचर 2019 मेष राशि के जातकों के लिए अनुकूल नहीं दिखाई दे रहा है। मेष राशि वालों के लिए केतु का गोचर नवम भाव में होगा। कुंडली में नवम से व्यक्ति के धर्म, दर्शन, भाग्य, पिता, गुरु के बारे में जाना जाता है। केतु गोचर के दौरान जातकों को विभिन्न क्षेत्रों में संघर्ष का सामना करना पड़ सकता है। पैसों के लेन देन के मामलों में किसी पर आसानी से भरोसा न करें। केतु के प्रभाव से विचारों में रूढ़िवादी सोच पैदा होगी। इस दौरान व्यवसाय या अन्य किसी चीज़ में आर्थिक नुकसान हो सकता है, इसलिए व्यवसाय व धन से संबंधित निर्णय गंभीरता से विचार करने के बाद ही लें। धर्म को लेकर आपका नज़रिया दो तरफा झुक सकता है, साथ ही आपका पारिवारिक जीवन भी प्रभावित होगा। पिता से मतभेद हो सकते हैं व उनकी सेहत में गिरावट आ सकती है। परिवार के लोगों से संबंध खट्टे रहेंगे, इसलिए आपको इस तरफ ध्यान देने की आवश्यकता है।

उपाय : काले तिल का दान करें।

वृषभ

केतु ग्रह का 2019 में धनु राशि में गोचर वृषभ राशि के जातकों के लिए अधिक अच्छा नहीं रहेगा. यह वृषभ राशि से आठवें भाव में जाएगा. कुंडली का आठवां भाव दुर्घटना, विपदा, आयु व खतरों के बारे में बताता है. यह समय आपके लिए चुनोतिपूर्ण रहेगा इस समय आपको चोट लगने व दुर्घटना ग्रसित होने की संभावना अधिक है इसलिए वाहन चलाते समय नियमों व सुरक्षा का ध्यान रखें, किसी प्रकार की लापरवाही न बरतें. मानसिक तनाव बढ़ने की भी संभावना है. अपने स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखना होगा. आय में कमी हो सकती है जिससे आर्थिक स्थिति खराब होगी. धर्म, आध्यात्म के कार्यों में अधिक मन लगेगा. दूसरे लोगों का आपके प्रति व्यवहार अच्छा नहीं रहेगा उनका बुरा बर्ताव आपके लिए तनाव का कारण बनेगा. परिवार वाले, साथी या दोस्त से कहासुनी हो सकती है इसलिए इस समय आपको अपने क्रोध पर नियंत्रण रखने की आवश्यकता होगी।

उपाय : तिल का तेल दान करें।

मिथुन

मिथुन राशि के जातकों के लिए केतु गोचर 2019 अच्छे प्रभाव नहीं देगा. यह आपके जीवन पर विपरीत प्रभाव डालेगा. केतु आपकी राशि से सातवें भाव में प्रवेश करेगा. कुंडली में सातवें भाव से मनुष्य के जीवनसाथी, वैवाहिक जीवन, आदि के बारे में जाना जाता है. दाम्पत्य जीवन में कई विपदाओं, समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। केतु गोचर आपके वैवाहिक जीवन, पार्टनर या व्यावसायिक रूप से पार्टनर को प्रभावित करेगा. कई मामलों में आपका भाग्य आपका साथ भी देगा. आपका जीवनसाथी से मतभेद, झगड़े या मनमुटाव भी हो सकता है. ऐसा न हो इसके लिए आपको जीवनसाथी पर पूर्ण विश्वास, समर्पण भाव रखना होगा व उनकी भावनाओं का सम्मान करना होगा. यदि आप व्यापार के क्षेत्र से जुड़े हैं तो आपको व्यापार में घाटा, पार्टनर से झगड़ा, विवाद हो सकता है. परिवार में भी संपत्ति को लेकर लड़ाई, झगड़ा हो सकता है।

उपाय : भगवान श्री गणेश की स्तुति करें, उन्हें दूर्वा( घास) चढ़ाएं।

कर्क

केतु गोचर 2019 कर्क राशि वालों के लिए मुश्किल परिस्थितियां ला सकता है. कर्क राशि में केतु गोचर कुंडली के छठें भाव में होगा. कुंडली का छठा भाव कर्ज, शत्रु, बीमारी आदि से संबंधित होता है. केतु का गोचर आपके करियर एवं व्यवसाय के लिए कठिन समय ला सकता है. सेहत की दृष्टि से भी केतु का गोचर आपके लिए अधिक अनुकूल नहीं है आपकी सेहत में गिरावट के आसार बन सकते हैं. खान पान (भोजन) को लेकर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है. खराब व बाहर के खाने से परहेज़ करें. स्वस्थ शरीर के लिए योग, व्यायाम रोज़ाना करें. केतु गोचर के दौरान आपके कार्यक्षेत्र में भी कई प्रकार की बाधाएं आ सकती हैं. आर्थिक क्षेत्र को लेकर आपको कुछ प्रबंध करना होगा. खर्चों को नियंत्रण में रखें गैर जरूरी व्यय करने से बचें. अपनी आय और व्यय के बीच तालमेल बनाकर रखें इससे बजट नहीं बिगड़ेगा।

उपाय : हनुमान जी की आराधना करें।

सिंह

सिंह राशि के जातकों के लिए केतु गोचर 2019 बहुत अच्छे संकेत नहीं दे रहा है. इस समय में कई प्रकार की परेशानियों का सामना आपको करना पड़ सकता है. केतु का गोचर सिंह राशि से पंचम भाव में होगा. पंचम भाव बुद्धि, प्रसिद्धि, संतान का बोध कराता है. इस दौरान आपको भाग्य का साथ बेहद कम मिलेगा इसलिए कड़ी मेहनत पर ही आपको विश्वास रखना होगा. व्यापार आदि में बेहद सावधानी से कदम उठाने होंगे. प्रेम संबंधों में साथी से वैचारिक मतभेद हो सकते है लेकिन आपको अपने साथी से प्रेमपूर्वक बर्ताव रखना होगा. वैचारिक, मानसिक एवं बौद्धिक रूप से आपको कई चुनौतियों का सामना करना होगा. आर्थिक मसलों में भी परेशानियां खड़ी होंगी. धन की हानि भी संभव है धन के मामलों को बेहद सावधानी से सुलझाएं. इस समय सेहत पर भी खराब प्रभाव पड़ सकता है। छात्रों को अध्ययन में परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।

उपाय : भैरव देव के मंदिर में काला ध्वज चढ़ाएं।

कन्या

केतु गोचर 2019 कन्या राशि वालों को इस समय सावधानी बरतने के संकेत दे रहा है. केतु कन्या राशि से चौथे भाव में प्रवेश करेगा. कुंडली का चौथा भाव घर की दशा, माता, संपत्ति, सुख, संसाधन आदि के बारे में बताता है. करियर को लेकर कई रुकावटें रास्ते मे आ सकती हैं. परिवार में क्लेश उत्पन्न हो सकते हैं. संबंधियों या परिवार वालों से विवाद हो सकता है. माता का स्वास्थ्य भी बिगड़ सकता है उनकी सेहत का ध्यान रखना भी बेहद आवश्यक है. आर्थिक व धन संबंधी चुनोतियाँ भी आगे आएंगी. अपने कार्यक्षेत्र में अत्यधिक व्यस्तता के चलते परिवार को समय नहीं दे पाएंगे. बजट गड़बड़ा सकता है, गैर ज़रूरी चीजों पर धन व्यय न करें. आय के मुकाबले खर्च में काफी वृद्धि हो सकती है इसलिए अपनी आय और व्यय के बीच संतुलन बनाकर चलें।

उपाय : नील पुष्प दान करें।

तुला

तुला राशि वालों के जीवन पर केतु गोचर का अनुकूल प्रभाव पड़ेगा. केतु गोचर आपकी राशि से तीसरे भाव में गोचर करेगा. कुंडली का तीसरा भाव पराक्रम, शौर्य, मित्र, संबंध आदि का बोध कराता है. कार्यक्षेत्र में स्थिति आपके अनुकूल बनेगी, कार्य मे मन लगेगा व आप प्रसन्नता का अनुभव करेंगे. कार्यक्षेत्र में पदोन्नति मिल सकती है. नोकरी के नए- नए विकल्प सामने आएंगे, अच्छा अवसर आने पर नोकरी में परिवर्तन भी कर सकते है. अपने से छोटे, जूनियर्स का सहयोग आपको मिलेगा. इस समय आप स्वयं में कई परिवर्तन देखेंगे. अपने व्यक्तित्व में बदलाव व विकास महसूस करेंगे. दूसरे से बातचीत के लहज़े (तरीके) में परिवर्तन होगा अर्थात् कम्युनिकेशन स्किल अच्छी होगी. यदि आवश्यक न हो तो लंबी दूरी की यात्रा पर ना जाएं. छोटी दूरी की यात्राएं आप कर सकते है जो आपके लिए फायदेमंद रहेंगी. केतु गोचर के दौरान आपके भीतर सम्मान, साहस की वृद्धि होगी।

उपाय : केतु मंत्र का जाप करें " ऊँ स्त्रां स्त्रीं स्त्रों सः केतवे नमः "

वृश्चिक

केतु का गोचर वृश्चिक राशि वालों के जीवन में कई प्रकार की चुनोतियाँ लेकर आ रहा है यह आपकी राशि से दूसरे भाव में गोचर करेगा. कुंडली का दूसरा भाव व्यक्ति की आर्थिक स्थिति, वाणी, नेत्र, शिक्षा आदि के विषय में बताता है. इस समय आपका भाग्य आपका साथ नहीं देगा भाग्य का सितारा कमज़ोर रहेगा. नौकरी व्यवसाय, शिक्षा, करियर को लेकर थोड़ी परेशानियां सामने आ सकती है. धन संबंधी समस्याएं भी आगे आएंगी. किसी भी प्रकार के विवाद से बचने की कोशिश करें. अपने गुस्से को नियंत्रण में रखें किसी भी परिस्थिति में आप को न खायें. के प्रकार के कार्यों में उलझने के चलते परिवार से दूर जाना पड़ सकता है. पारिवारिक जीवन के लिए समय अच्छा नहीं है. खर्चों पर नियंत्रण रखें. फ़िज़ूल खर्च बढ़ सकते है. किसी से भी धन उधर न लें. धन संबंधी मामलों में सतर्कता, सावधानी बरतें व अपने स्वास्थ्य पर भी ध्यान देने की आवश्यकता है।

उपाय : नील पुष्प दान करें।

धनु

केतु का गोचर 2019 में धनु राशि में होगा. यह राशि से प्रथम भाव में प्रवेश करेगा.कुंडली का प्रथम भाव सेहत, शारिरिक संरचना, सम्मान, स्वभाव आदि का बोध कराता है आपके राशिफल के अनुसार केतु गोचर आप पर मिश्रित प्रभाव डालेगा. स्वास्थ्य को लेकर सचेत रहें समय समय पर स्वास्थ्य का चेकअप कराते रहें, किसी भी प्रकार की लापरवाही न बरतें. गोचर के दौरान सुरक्षित रहना होगा. धर्म, पूजा - पाठ, आध्यात्म को लेकर रुचि पैदा होंगी कार्यों में अधिक मन लगेगा व मानसिक शांति प्राप्त होगी. केतु का प्रतिकूल प्रभाव घर -परिवार पर भी पड़ेगा. सभी के साथ संबंधों में खिंचाव आ सकता है पारिवारिक जीवन में अनेक चुनौतियाँ आ सकती हैं. वैवाहिक संबंध में भी उतार चढ़ाव व कई परिवर्तन देखने को मिलेंगे. जीवनसाथी से मनमुटाव या झगड़ा हो सकता है. इस अवधि में अपने दाम्पत्य जीवन से दूर जा सकते है. जीवनसाथी से दूरियां बढ़ जाएंगी।

उपाय : महामृत्युंजय मंत्र का जाप करें।

मकर

मकर राशि वालों के लिए केतु का गोचर अनेक समस्याएं लेकर आ सकता है. केतु आपकी राशि से बारहवें भाव में गोचर करेगा. कुंडली में बारहवां भाव ख़र्चों का भाव है, यह व्यय और हानि को दर्शाता है. कई सारी परेशानियों का सामान आपको करना पड़ सकता है. यह समय आपके लिए कष्टकारी होगा. आर्थिक हानि होने की सम्भावना रहेगी. उचित प्रबंधन व सूझ-बूझ से इस परेशानी से बचा जा सकता है. इस समय में आपके खर्चे बढ़ेंगे, गैर ज़रूरी खर्चों को कम करने पर ध्यान दें, आवश्यकता अनुसार ही धन व्यय करें. विदेश यात्रा पर जाने की संभावना है. माता-पिता, बच्चों के स्वास्थ्य का ध्यान रखें, साथ ही अपनी सेहत का भी ख्याल रखें. किसी भी नए कार्य को शुरू न करें. कार्यक्षेत्र में चुनौती मिलेगी. उन्नति के लिए संघर्ष करना होगा. किसी भी प्रकार का गैर कानूनी काम न करें. अनैतिक कार्यों से दूर रहें. इस दौरान मानसिक तनाव हो सकता है परंतु इसे अपने पर हावी न होने दें।

उपाय : विविध रंगों के कंबल दान दें।

कुम्भ

कुम्भ राशि के जातकों के लिए यह समय अनुकूल रहने वाला है. केतु गोचर के आपको सकारात्मक परिणाम मिलेंगे. केतु आपकी राशि से ग्यारहवें भाव में प्रवेश करेगा. ग्यारहवां भाव इनकम व लाभ का भाव होता है. केतु आपके लिए शुभ कारक बनेगा. इस समय आप अनेक प्रकार की खुशियों का अनुभव करेंगे. करियर में आपको सफलता मिलेगी. आय में वृद्धि होगी व अनेक स्त्रोतों से लाभ प्राप्त होगा. नई नौकरी मिलने की संभावना है व नौकरी में प्रमोशन भी हो सकता है. केतु के आशीर्वाद से धन के मामलों में आपको खुशी व संतुष्टि मिलेगी. जीवन में आपको आशा के अनुसार परिणाम मिलेंगे व आपकी खुशियों में वृद्धि होगी. व्यापार क्षेत्र से संबंध रखने वालों के लिए यह समय मुनाफे का समय होगा. पारिवारिक जीवन मे बच्चों की सेहत में कमी आएगी बच्चों के स्वास्थ्य का ध्यान रखें. अपने सीनियर्स से सावधान रहें, अपने काम से काम रखें. यदि आप विद्यार्थी है तो पढ़ाई में सफलता के लिए कड़ा परिश्रम करना होगा. इस समय आपका सामाजिक दायरा बढ़ेगा।

उपाय : लहसुनिया रत्न धारण करें।

मीन

केतु के गोचर से 2019 में मीन राशि वाले जातक भी प्रभावित होंगे. यह आपकी राशि से दसवें भाव मे प्रवेश करेगा. दसवाँ भाव कर्म व प्रतिष्ठा का भाव होता है. यह गोचर आपके लिए अधिक अनुकूल नहीं है. इस समय आपको कार्यक्षेत्र से निराशाजनक परिणाम मिल सकते हैं व मन कभी कभार दुखी हो सकता है. इस दौरान मन में निराशा के भाव भी आएंगे. काम का दबाव भी आपके ऊपर बना रहेगा. अधिक कार्य के चलते निजी जीवन को कम समय दे पाएंगे. अपने कार्य व निजी जीवन में तालमेल बनाकर चलने की आवश्यकता है. इस दौरान आर्थिक क्षेत्र में लाभ मिलने के योग हैं. धन का आगमन होगा और आप धन की बचत करने में भी समर्थ रहेंगे. पारिवारिक जीवन में माता की सेहत में कमी आ सकती है उनके स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखें. कुल मिलाकर केतु गोचर आपके जीवन में कुछ सकारात्मक व कुछ नकारात्मक प्रभाव लेकर आएगा.

उपाय : तिल का तेल दान करें।