गुरु गोचर 2019

 गुरु गोचर 2019 गुरु ग्रह का राशि परिवर्तन करना गुरु गोचर कहलाता है. 2019 में होने वाला गुरु गोचर सभी के जीवन पर अनेक प्रकार के प्रभावों डालेगा.ज्योतिष शास्त्रों के अनुसार बृहस्पति को देवताओं का गुरु कहा जाता है. गुरु ग्रह को शुभता का प्रतीक माना गया है. महिलाओं के लिए इसे पति कारक व पुरुषों के लिए धन कारक माना जाता है. यदि किसी व्यक्ति का गुरु अच्छा हो तो वह मुश्किल परिस्थितियों से भी आसानी से निकल जाता है. यह विद्या का प्रबल कारक है ये बुद्धि, उदार भाव व प्रचुरता का भी कारक माना जाता है. गुरु यदि अच्छी स्थिति में हो तो व्यक्ति ऊंचाइयों को प्राप्त करता है. ज्योतिष शास्त्र में गुरु पूर्व जन्म के कर्म, धर्म, दर्शन, ज्ञान व संतान का प्रतिनिधित्व करता है. गुरु के उच्च होने पर प्रगति, समृद्धि प्राप्त होती है. धनु और मीन राशि पर इसका अधिपत्य होता है. गुरु के प्रभाव से व्यक्ति का वैवाहिक जीवन अच्छा हो जाता है. यह आर्थिक रूप से सम्पन्नता प्रदान करता है व संसाधनों में वृद्धि भी करता है.

मधुमेह का सीधा संबंध कुंडली के बृहस्पति से माना जाता है. गुरु की पूजा-अर्चना पेट को प्रभावित करने वाली बीमारियों से छुटकारा दिला सकती है. कुंडली में बृहस्पति ग्रह के बलवान होने से जातक के ज्ञान में वृद्धि होती है व पढ़ाई में सफलता मिलती है. ज्योतिष में पीला रंग, स्वर्ण धातु, पुखराज बृहस्पति से संबंधित होता है. बृहस्पति ग्रह 30 मार्च 2019 की रात्रि को 3 बजकर 11 मिनट पर धनु राशि में प्रवेश करेगा एवं 22 अप्रैल 2019 को शाम 5:55 पर वक्री होकर वापस वृश्चिक राशि में लौट आएगा. उसके बाद 5 नवंबर 2019 को सुबह 6:42 पर पुनः धनु राशि में प्रवेश करेगा. गुरु ग्रह के इस राशि परिवर्तन का प्रभाव सभी बारह राशियों पर पड़ेगा।

मेष

गुरु का गोचर 2019 में मेष राशि के जातकों के लिए जीवन में अच्छे प्रभाव लेकर आएगा. बृहस्पति ग्रह मेष राशि से नवम भाव में गोचर करेगा. कुंडली के नवम भाव से मनुष्य के गुरु, पिता, सत्ता, धर्म, भाग्य का पता चलता है. इस समय में आप अपने पारिवारिक जीवन से संतुष्ट रहेंगे. परिवार में मेल-जोल, प्रेम, विश्वास बढ़ेगा. आर्थिक रूप से संपन्नता आएगी. व्यापार संबंधित क्षेत्र में सफलता मिलेगी, आय में वृद्धि होगी. कार्यक्षेत्र में उन्नति होगी. पूजा पाठ और भक्ति में मन लगेगा, आध्यात्मिक ज्ञान में वृद्धि होगी. धार्मिक यात्रा पर जाने की संभावना है. पिता का स्वास्थ्य अच्छा रहेगा व अच्छी सेहत का लाभ भी मिलेगा. घर परिवार में किसी नए सदस्य के आने के संकेत मिल रहें है. आप खुशियों का अनुभव करेंगे. सकारात्मक ऊर्जा का संचार होगा. सामाजिक दायर बढ़ेगा व समाज में आपका मान- सम्मान भी बढ़ेगा.

उपाय : भगवान शिव का रुद्राभिषेक करें।

वृषभ

गुरु गोचर 2019 वृषभ राशि वालों के लिए अधिक अच्छे संकेत नहीं दे रहा है. गुरु गोचर आपकी राशि में अष्टम भाव में होगा. कुंडली का आठवां भाव अचानक धन प्राप्ति, रहस्य, आयु व दुर्घटना के बारे में बताता है. गोचर के दौरान आपको हर कदम सावधानी से उठाना होगा. गुरु गोचर का नकारात्मक प्रभाव आपके कार्यों पर पड़ेगा. व्यवसाय में भी अच्छे परिणाम नहीं मिलेंगे. अपने स्वास्थ्य को लेकर सावधानियां बरतनी आवश्यक होगी. पेट की समस्याएं आपको परेशान कर सकती हैं. व्यवसाय को लेकर आप के अंदर द्वंद्व व परेशानी रहेगी और आप उत्साह का अनुभव नहीं कर पाएंगे. आर्थिक मामलों में सोच समझकर निर्णय लें, लापरवाही से आपको धन हानि हो सकती है. गोचर के दौरान धर्म कर्म में आपकी रुचि बढ़ेगी. पूजा पाठ में मन लगेगा. आध्यात्मिक ज्ञान प्राप्त करने की इच्छा जागृत होगी।

उपाय : वीरवार को शुद्ध घी का दान करें।

मिथुन

गुरु का यह गोचर मिथुन राशि वालों के लिए सकारात्मक परिणाम संभावना को दिखा रहा है. गुरु आपकी राशि से सातवें भाव में प्रवेश करेगा. यह भाव जीवनसाथी, वैवाहिक जीवन कार्य व पार्टनर के बारे में जानकारी देता है. यह समय आपको आर्थिक रूप से उन्नति के संकेत दे रहा है. आर्थिक क्षेत्र में बड़ी सफलता आपको मिलेगी. व्यापार के क्षेत्र से जुड़े जातकों को बड़ा मुनाफा मिल सकता है. आपके पार्टनर से संबंध अच्छे बनेंगे रिश्तों में मिठास बढ़ेगी. जीवनसाथी के साथ कीमती समय बिताने का अवसर मिलेगा. वैवाहिक जीवन में अनेक खुशियां आएंगी. घर परिवार में, व्यवसाय में, दोस्तों से हर जगह लोगो से अच्छे रिश्ते बनेंगे. धन से संबंधित इच्छाएं पूरी होंगी. व्यवसाय भी सुचारू रूप से आगे बढ़ेगा. कुल मिलाकर गुरु गोचर मिथुन राशि वालों के लिए अच्छे प्रभाव लाने वाला है.

उपाय : घर में कपूर का दिया जलाएं।

कर्क

गुरु गोचर आपकी राशि मे षष्ठम भाव मे होगा. कुंडली का छठा भाव दुःख, पीड़ा, बीमारी, शत्रु, बुरे कामों के बारे में बताता है. इस दौरान आपके दुश्मन का ध्यान आप पर होगा वह आपको नुकसान पहुंचाने के बारे में रणनीति बना सकते हैं. इस समय आपको सफल होने के लिए संघर्ष करना पड़ सकता है. किसी से उधर या लोन लेने में आपको आसानी होगी. यदि आप छात्र हैं तो पढ़ाई-लिखाई में कड़ी मेहनत करनी पड़ेगी. यदि किसी परीक्षा की तैयारी कर रहें तो आपको उसमें सफलता पाने के लिए कड़ी मेहनत करनी होगी. अपनी समस्याओं के कारण आपको मानसिक तनाव भी हो सकता है. मानसिक बोझ का अनुभव करेंगे. हर किसी पर संदेह न करें. आपसी रिश्तों में खटास आ सकती है. परिवार और दोस्तों में प्रेम, मिठास बनाएं रखें।

उपाय : वीरवार को केले के पेड़ की पूजा करें।

सिंह

गुरु गोचर सिंह राशि के जातकों के लिए शुभ संकेत लेकर आ रहा है. गुरु सिंह राशि से पांचवे भाव में प्रवेश करेगा. यह भाव बुद्धिमता, लगाव, पद प्रतिष्ठा, संतान, का बोध करता है. गोचर के समय आपको विभिन्न क्षेत्रों से कई सकारात्मक फल प्राप्त होंगे. परिवार में माहौल अच्छा बनेगा, किसी नए सदस्य के आने की संभावना है. धन के मामलों में आपको सफलता मिलेगी. आर्थिक रूप से सम्पन्नता आएगी, आपकी आर्थिक योजनाएं कारगर साबित होंगी. इस दौरान पूजा पाठ में आपका मन लगेगा, आध्यात्म के क्षेत्र में आपकी रुचि जागृति होगी. आपकी सभी संपत्तियों ( चल व अचल) में वृद्धि होगी. व्यवसाय में विशेष सफलता प्राप्त करेंगे. विभिन्न क्षेत्रों से शुभ समाचार मिलेंगे. यह गोचर आपको जीवन में अनेकों सकारात्मक परिणाम देगा. आपका सामाजिक दायरा बढ़ेगा, सामाजिक कल्याण के कार्यों में आप सक्रिय भूमिका निभाएंगे।

उपाय : बृहस्पति बीज मंत्र का जाप करें "ऊँ ग्रां ग्रीं ग्रों सः गुरवे नमः"

कन्या

गुरु ग्रह गोचर 2019 का कन्या राशि के जातकों पर भी प्रभाव पड़ेगा. आपके लिए यह गोचर कष्टकारी हो सकता है. गुरु कन्या राशि के चतुर्थ भाव मे गोचर करेगा. कुंडली का चौथा भाव सुख, शांति, संपत्ति आदि का बोध कराता है. इस समय किए जाने वाले सभी कार्यों को आप सोच समझकर करें. पारिवारिक जीवन में उथल पुथल हो सकती है. आपसी मैन मुटाव बढ़ जाएगा. परिवार में लोगों के बीच किसी बात को लेकर लड़ाई झगड़ा हो सकता है. भौतिक जीवन में आपका मन नहीं लगेगा. भक्ति पाठ, धर्म, कर्म आध्यात्म ज्ञान की प्राप्ति में आपकी इच्छा बढ़ेगी. ईश्वर भक्ति में आपको आनंद आएगा. हर किसी पर विश्वास न करें. किसी व्यक्ति विशेष को ज़रूरत से ज़्यादा विश्वास पात्र ना बनाएं. कुछ कठिन परिस्थितियां आपके समक्ष आ सकती हैं जिससे मानसिक तनाव बढ़ेगा. कठिन परिस्थितियों के लिए स्वयं को मानसिक रूप से तैयार रखें.

उपाय : गाय को रोटी खिलाएं।

तुला

गुरु आपकी राशि से तृतीय भाव में गोचर करेगा. गोचर के दौरान तुला राशि के जातकों के सामने कई प्रकार की परेशानियां आ सकती हैं. यह समय आपके लिए अधिक लाभकारी नहीं होगा. इस समय में आप अपने अंदर आलस का अनुभव करेंगे. किसी भी कार्य को करने के लिए बहुत संघर्ष करना होगा. सफलता की राह में बहुत सी चुनौतियाँ, बाधाएं उत्पन्न हो सकती हैं। गोचर के दौरान ईश्वर की भक्ति, पूजा पाठ व आध्यात्म में विशेष रुचि होगी, इससे मन को काफी शांति मिलेगी। किसी कार्य के चलते आपके निवास स्थान में परिवर्तन होने की संभावना है. गोचर की यह अवधि आपके लिए चुनौतिपूर्ण हो सकती है. योग व व्यायाम से स्वास्थ्य को बेहतर कर सकते है. इस समय आपको मानसिक शांति व मानसिक स्थिरता की आवश्यकता होगी.

उपाय : हल्दी व चने की दाल दान करें।

वृश्चिक

गुरु गोचर 2019 वृश्चिक राशि के जातकों के लिए बहुत अच्छे प्रभाव लेकर आएगा. गुरु आपकी राशि से द्वितीय भाव में गोचर करेगा. कुंडली का द्वितीय भाव वाणी, नेत्र, रंग, रूप , शिक्षा, आर्थिक स्थिति आदि के बारे में बताता है. इस दौरान आपके भाग्य का सितारा चमक सकता है. पारिवारिक जीवन सुखी रहेगा. दोस्तों, रिश्तेदारों से संबंध अच्छे होंगे. आपको परिजनों का सहयोग भी प्राप्त होगा.धन के मामले में शुभ समय है. आर्थिक क्षेत्र में आपको लाभ की बहुत संभावना है. वैवाहिक जीवन अच्छा रहेगा, आप खुशहाली का अनुभव करेंगे. गुरु गोचर आपके लिए शुभ रहेगा. घर पर कोई शुभ कार्य सम्पन्न हो सकता है. साथी से संबंधों में मधुरता रहेगी. धन संबंधी सभी इच्छाएं पूर्ण होंगी। आप अपनी सूझ बूझ व धन बल से अपने विरोधियों को परास्त करने में कामयाब होंगे।

उपाय : बृहस्पति के बीज मंत्र का जाप करें "ऊँ ग्रां ग्रीं ग्रों सः गुरवे नमः"

धनु

बृहस्पति ग्रह धनु राशि में गोचर करेगा यह आपकी राशि से लग्न भाव में स्थिति होगा. कुंडली का लग्न भाव व्यक्ति के व्यक्तित्व, शरीर, स्वभाव के बारे में बताता है. गुरु गोचर के दौरान आप पर गुरु की कृपा बरसेगी. विद्यार्थियों के लिए यह समय अच्छा रहेगा. प्रेम संबंधी मामलों के लिए भी यह समय शुभ रहेगा. प्रेम जीवन और वैवाहिक जीवन में मधुरता व अनुकूलता आएगी और साथी से संबंध अच्छे बनेंगे। जिस व्यक्ति को आप पसंद करते है उसे अपने दिल की बात कहेंगे. व्यवसाय में सावधानी से कदम उठाने होंगे, सोच समझकर ही फैसले लें. आर्थिक मामलों में संभालकर आगे बढ़ें. इस समय आपको धन की हानि हो सकती है इसलिए धन को लेकर सतर्कता बरतें. के मिलाकर यह गोचर आपके लिए मिश्रित परिणाम लाएगा।

उपाय : पुखराज को सोने की अंगूठी में जड़वा कर तर्जनी उंगली में पहनें।

मकर

गुरु गोचर 2019 से आपको सकारात्मक व नकारात्मक दोंनो प्रकार के परिणाम प्राप्त होंगे. गुरु ग्रह आपकी राशि में द्वादश भाव में गोचर करेगा. कुंडली का द्वादश भाव हानि और व्यय को दर्शाता है. आर्थिक रूप से निवेश करने की संभावना बन सकती है. धार्मिक कार्यो में व्यय हो सकता है. आध्यात्म में आपका मन लगेगा. आपके लिए दूर की यात्रा व विदेश यात्रा के संयोग बन रहें है. पारिवारिक जीवन में शांति बनेगी. वैवाहिक जीवन अच्छा रहेगा.प्रसन्नता का अनुभव करेंगे. जीवन साथी से रिश्ते अच्छे होंगे. आप एक दूसरे की भावनाओं की कद्र करेंगें. रिश्तेदारों से रिश्ते मधुर होंगे. धार्मिक कार्यो से मानसिक शांति व सुकून का अनुभव करेंगें।

उपाय : माथे पर केसर का तिलक लगाएं।

कुंभ

गुरु गोचर कुंभ राशि वाले जातकों के लिए अच्छे संकेत दे रहा है. गुरु कुंभ राशि से एकादश भाव में गोचर करेगा. कुंडली का ग्यारहवां भाव लाभ व आय को दर्शाता है. इस दौरान आपकी अपने किसी प्रिय से मुलाकात हो सकती है व उनके साथ आप समय बिता सकते है. आपके जीवन में अधिक उथल-पुथल नहीं होगी. आप शांति, सुख का अनुभव करेंगे, बिना किसी परेशानी के जीवन बीताएंगे. इस दौरान आपको लाई शुभ अवसर भी प्राप्त होंगे. कार्यक्षेत्र में आपको सकारात्मक परिणाम मिलेंगे। करियर को लेकर शुभ समाचार मिलेगा. स्वास्थ्य अच्छा बना रहेगा.इस समय वैवाहिक जीवन सुखद रहेगा. अपने पार्टनर को समय दें व उनकी भावनाओं का सम्मान करें. घर परिवार में सब सामान्य व सुखद रहेगा।

उपाय : सुबह के समय पीपल के पेड़ पर जल चढ़ाएं।

मीन

गुरु गोचर 2019 मीन राशि के जातकों को भी प्रभावित करेगा. गुरु का गोचर मीन राशि से दसवें भाव मे प्रवेश करेगा। कुंडली का दसवां भाव कर्मों के बारे में बताता है. गुरु गोचर का नकारात्मक असर आपके स्वास्थ्य पर पड़ेगा. सेहत खराब हो सकती है. अपनी सेहत का ज़रूर ख्याल रखें. माता की सेहत में सुधार होगा. इस समय आपको कार्यक्षेत्र में इच्छा अनुसार परिणाम प्राप्त होंगे. किसी कार्य के सिलसिले में कुछ समय के लिए घर से दूर भी जाना हो सकता है. धन के मामलों में खुशी मिलेगी. आर्थिक स्थिति मज़बूत बनेगी. धन का व्यय कम होगा व आप उचित आर्थिक फैसले लेंगे. घर परिवार में खुशियां आएंगी. सबसे अच्छे संबंध बनेंगे. वैवाहिक जीवन सुचारू रूप से चलेगा, रिश्ता मधुर बनेगा।

उपाय : गुरु यंत्र को स्थापित कर उसकी पूजा करें।