बिहू 2020 दिनांक और महत्व

बिहू 2020, 15 जनवरी को भारत में मनाया जाएगा। बिहू असम राज्य का एक बहुत ही पवित्र और महत्वपूर्ण त्यौहार है। असम में इस त्यौहार को नए साल के रूप में मनाया जाता है। इस दिन सूर्य मेष राशि में गोचर करता है, इसलिए इस दिन क़ो नए सौर कैलेंडर की शुरुआत भी माना जाता है। इस मौके पर लोग अपनी फसलों की कटाई करते हैं और इसके लिए ईशवर का धन्यवाद करते हैं। इस दिन खेत में उगाई गई नई फसलों से पकवान बनाने की भी परंपरा है। बिहू पर नए अनाज से ही पकवान तैयार किए जाते हैं और उसे भगवान को चढ़ाया जाता है। बिहू साल में एक बार नहीं बल्कि तीन बार मनाई जाती है और इसे अलग-अलग नामों से जाना जाता है। ये नाम हैं माघ बिहू, बोहाग बिहू और रोंगाली बिहू।

बिहू 2020

बिहू 2020: बिहू पर्व का महत्व

बिहू 2020 लेख के इस भाग में हम ​बिहू त्यौहार पूरी तरह से फसलों की कटाई के लिए ही मनाया जाता है। इस त्यौहार के बाद ही वसंत ऋतू की शुरुआत होती है। इस मौके पर लोग अपने घरों में तरह तरह के पकवान बनाते हैं और अपनी पारंपरिक पोषाक पहनकर बिहू डांस करते हैं। यह एक दिन का नहीं बल्कि पूरे सात दिनों का त्योहार होता है, जिसमें हर दिन का अपना अलग महत्व है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान करने से घर में सुख शांति आती है। खास बात यह है कि इस दिन कच्ची हल्दी और उड़द दाल के पेस्ट से नहाने का रिवाज है। इसके बाद नए कपड़े पहनकर बड़ों का आर्शीवाद लिया जाता है। एक दूसरे से गले मिलकर पकवान खिलाना और उपहार देना भी इस पर्व की पुरानी परंपरा है। असम के हर घर में इस दिन खार नाम का व्यंजन तैयार किया जाता है। जो कच्चे पपीते से बनाया जाता है और इसका स्वाद थोड़ा कड़वा होता है। इसमें जले हुए केले के तने को मिलाया जाता है।

बिहू 2020: बिहू में बनने वाले विभन्न व्यंजन

  • बिहू में पांच तरह के व्यंजन जरूर बनाए जाते हैं। जिसमें खार, आलू पितिका, जाक मसोर टेंगा और मांगशो शामिल हैं। खार विशेष रूप से असम की बहुत लोकप्रिय डिश है।
  • बच्चों से लेकर बड़ों तक सभी इसे बड़े चाव से खाते हैं। इसमें अल्केलाइन या क्षारीय तत्व डाला जाता है, जो पेट की सफाई करने के साथ ही बॉडी को डिटॉक्स भी करता है।
  • आलू पितिका बहुत ही हल्की डिश होती है जिसे बिहार में चोखा कहा जाता है। यह उबले आलू से तैयार होती है, इसमें प्याज, लहसुन, हरी मिर्च, हरी धनिया पत्तियां, नमक और सरसों तेल डाला जाता है।
  • जाक यानि कि साग हरी पत्तेदार सब्जियों से बनता है। इसमें लहसुन या जीरे का तड़का डालकर बनाते हैं।
  • मसोर टेंगा यानि कि मछली असम की सबसे प्रचलित डिश है। यह थोड़ा खट्टा होता है, इसमें नींबू, कोकम, टमाटर, हर्ब्स,आदि डाला जाता है।
  • अंतिम डिश है मांगशो जिसे मटन करी कहते हैं। असम राज्य का ये बेहद पसंदीदा मांसाहारी डिश है।

बिहू 2020: बिहू पर्व के दौरान बरती जाने वाली सावधानियां

  • बिहू के मौके पर घर में तुलसी का पौधा अनिवार्य रूप से लगाना चाहिए।
  • इस दिन पीपल या बबूल के पेड़ को छूना अशुभ माना जाता है।
  • इस पर्व में 4 बांस लगाकर उस पर पुआल एवं लकड़ी से ऊंचे गुम्बद का निर्माण करना अच्छा माना जाता है।
  • इस दिन घर आए सभी लोगों को भोजन जरूर करवाएं ।

हम उम्मीद करते हैं कि बिहू से संबंधित हमारा ये लेख आपको पसंद आया होगा। कुंडलीफ्री की ओर से आप सभी को ढेर सारी शुभकामनाएं !